केंद्र सरकार की उदासीनता व अदूरदर्शिता ने ही देश को महामारी की ओर खड़ा किया।

0
893

भारत : इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारत में कोरोना वायरस से बचाव की कारवाई काफी देर से शुरू हुई। क्रोनोलॉजी से हम सब जानते है कि इसका पता 31 दिसम्बर को चला था। एवं भारत में पहला मामला 30 जनवरी को मिला था।इसी दिन WHO ने इसे अंतरराष्ट्रीय चिंता वाली विश्व स्वास्थ्य इमरजेंसी घोषित किया था।

31 जनवरी को राहुल गांधी ने ट्वीट कर चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों पर संवेदना व्यक्त की और मोदी सरकार को कोरोना वायरस से सचेत भी किया। समय समय पर ट्वीट कर बार बार राहुल गांधी ने सरकार को कोरोना वायरस के प्रति सचेत भी किया। इसके ठीक उल्टा स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने 3 मार्च को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कोरोना वायरस से न डरने की घोषणा कर दी। इसके बाद 13 मार्च को राहुल गांधी ने ट्वीट किया “मैं दोहराता हूँ कि कोरोना वायरस एक विशाल समस्या है। अगर सख्ती से करवाई नही की गई तो भारतीय अर्थव्यवस्था को नष्ट कर देगी।


जब मोदी जी को लगा समस्या गंभीर हो रही है तो जल्दबाजी में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू से प्रारंभ कर 21 दिनों का लॉक डाउन की घोषणा कर दिए जो कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सही था किंतु इसकी सरकार द्वारा समुचित तैयारी नही की गई।

परिणामस्वरूप 21 दिनों के लॉक डाउन के कारण लोगों में भय और भूख के कारण लोग जैसे तैसे पैदल ही घर की ओर निकल पड़े। ऐसी लाखों लाख संख्या में है जो अपने अपने घर की ओर निकल पड़े है।

अब सरकार के लिए ये बहुत बड़ी समस्या है साथ ही संक्रमण बढ़ने की और भी सम्भवना बढ़ गई है।

उपरोक्त बातों पर ध्यान देने से पता चलता है कि आखिर राहुल गांधी के बार-बार कहने पर भी सरकार उदासीन क्यों थी। क्या ट्रैम्प के भारत आगमन और विदेशों में फंसे अमीरों की चिंता मोदी जी को थी। साथ ही गरीबों को अपने घर में भेजने की व्यवस्था न कर जल्दबाजी लॉक डाउन की घोषणा क्यों की। इस सभी का जवाब मोदी जी के पास ही है। किन्तु मोदीजी द्वारा कोरोना वायरस के महामारी से बचने के लिए देश मे लेट से ली गई निर्णय बहुत हद तक गलत निर्णय रहा। जिसके परिणाम स्वरूप देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या दिनप्रतिदिन बढ़ती जा रही है। साथ ही भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी घातक पड़।

अगर समय पर मोदी जी कोरोना वायरस से बचाव के लिए निर्णय ले लेते तो देश में इतना भयानक संकट न होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here